facebook google youtube Twiter
ghatati ghatana
About Us India World Chhattisgarh Sports Epaper Contact

facebook google+ YouTube twiter
Sunday 12 july 2020 05:07 AM

Breaking News


बैकुण्ठपुर@एक्वेरियम निर्माण की गति में ग्रहण,समयावधि पर काम होने में संशय



बैकुण्ठपुर@एक्वेरियम निर्माण की गति में ग्रहण,समयावधि पर काम होने में संशय 18-06-20 12:33:06

झुमका बांध में बनना था मछली के आकार का एक्वेरियम भवन

जिला खनिज न्यास से हो रहा था निर्माण,वर्ष 2017 में मिली थी स्वीकृति पर काम अब तक अधूरा

- रवि सिंह-
बैकुण्ठपुर 17 जून 2020 (घटती-घटना)। बैकुण्ठपुर के झुमका बांध में सौन्दर्यीकरण के तहत किये जा रहे निर्माण कार्य का धीमी गति से होना प्रशासनिक गंभीरता पर बड़ा सवाल है। बैकुण्ठपुर के झुमका बांध में बन रहे एम्ेरियम निर्माण की गति अब भी बेहद धीमी है। इसी धीमी गति के कारण पूर्व में कलेक्टर डोमन सिंह ने एफआईआर दर्ज करने की बात भी कही थी। मत्स्य विभाग के मुताबिक हो रहे कार्य लगभग महीने भर में पूरा होने की संभावना बतायी जा रही है। पर सवाल यह है कि छत्तीसगढ़ में मानसून की दस्तक हो चुकी है, निर्माण कार्य पहले भी प्रभावित होते रहे हैं इस कारण लोगों में समय पर पूरा हो पाने में संशय बरकरार है। झुमका बांध में मछली के आकार का एम्ेरियम भवन वर्श 2017-18 में बनाने की स्वीकृति मिली थी और ठेकेदार कार्य शुरू भी कर दिया गया पर जिला प्रशासन के उदासीनता से कार्य पूर्ण नहीं हो पाया है, अब भी कइ्र सारे काम अधूरे पड़े हैं। कोरोना वायरस के वजह से हो रहे कार्य में बाधा उत्पन्न हुआ पर हाल में कुछ दिन पहले ही लाकडाउन के बाद झुमका बांध खोला गया है। इस मौके पर एक बोट पर सवार समूचे जिला प्रशासन मीडिया में खासा चर्चा में रहा। सोशल डिस्टेंस का पालन न करने और मास्क न लगाए जाने के कारण अफसरों की काफी किरकिरी हुई। पूरा प्रषासनीक अमला के समक्ष अधूरे कार्य को देख कर उसके बारे में बातें हुई तब जाकर हो रहे कार्य के लिये विभाग ने थोड़ी तत्परता दिखा रही है। बता दें कि बीते कुछ माह पूर्व झुमका बोट क्लब शुरू किया गया है, जहां कैफेटेरिया और बोंटिग शुरू की गई है।
 झुमका बांध में बन रहे मछली आकार के एम्ेरियम में कई जगह दरारें दिख रही हैं। हालांकि इस संबंध में मत्स्य विभाग के सहायक संचालक शंकर चौरसिया का कहना है कि एम्ेरियम को पूरा होने में अब एक महीना और लगेगा। एम्ेरियम में दरारें माइनर क्रेक है फाइनल कोट में ये नहीं देखने को मिलेगा। यह कोई बड़ी समस्या नहीं है।

पूर्व में भी डीएमएफ की राशि रही सुर्खियों में

 कोरिया जिला प्रशासन द्वारा जिला खनिज न्यास (डीएमएफ) की बड़ी राशि से साज सज्जा और पर्यटन के नाम पर लाखों खर्च किया जाना सुर्खियों में रह चुका है। इसके बाद भी कई निर्माण कार्यो की रफ्तार बेहद धीमी है, और आज भी कई कार्य अधूरे पड़े है। जिसे कोई सुध लेने वाला नहीं है। ज्ञात हो कि जिले की पूर्व कलेक्टर ऋतु सेन द्वारा एसईसीएल के द्वारा सीएसआर मद से चिल्ड्रन पार्क बनवाया था जो उनके रहते ही टूटफूट गया। उसके बाद कलेक्टर एस प्रकाश द्वारा डीएमएफ के तहत कई कार्य करवाये गये। तत्कालीन कलेक्टर नरेंद्र दुग्गा ने डीएमएफ मद से भारी भरकम बजट इस पार्क की साज सज्जा के लिए स्वीकृत किए, लेकिन पार्क गुलजार नहीं हो पाया। इसके बाद कलेक्टर डोमन सिंह ने कार्यो की धीमी रफ्तार के लिए मत्यस विभाग को कई बार फटकार भी लगाई यहां तक एफआईआर दर्ज करने की बात भी कही गयी थी। विभाग पर कोई फर्क नहीं पड़ा।
वर्तमान कलेक्टर एसएन राठौर ने भी अधूरे कार्य को देखा और उसके लिये विभाग से चर्चा किया पर हो रहे कार्य को जल्द कराने की जिम्मेदारी उनकी है। सूत्रों का कहना है कि अब एक बार फिर जिला प्रशासन इस पर बड़ी राशि खर्च करने के मूड में नजर आ रहा है। जबकि पूर्व के कार्य अभी तक अधूरे पड़े हुए हैं।

Share .. . facebook google+ twiter