facebook google youtube Twiter
ghatati ghatana
About Us India World Chhattisgarh Sports Epaper Contact

facebook google+ YouTube twiter
Thursday 06 May 2021 03:05 AM

Breaking News


बैकुंठपुर @ टीकाकरण को लेकर युवाओं में था उत्साह,पर इंतजार कितना!



बैकुंठपुर @ टीकाकरण को लेकर युवाओं में था उत्साह,पर इंतजार कितना! 04-05-21 12:39:05

टिकाकरण के नए नियमों से युवाओं में उलझन बढ़ी,ज्यादा इंतज़ार को लेकर भी चिंता बढ़ी

- रवि  सिंह-
बैकुंठपुर  03 मई 2021 (घटती-घटना)।
 देश सहित प्रदेश में 1 मई से 18 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोगों के टिकाकरण करने का अभियान शुरू हो चुका है। जिले में इस अभियान का विधिवत शुभारंभ 2 मई से हो चुका है। प्रदेश सरकार के निर्णय अनुसार छत्तीसगढ़ में सबसे पहले अन्त्योदय योजना से जुड़े लोंगो को इसका लाभ पहुंचाया जाएगा। तत्पश्चात बीपीएल परिवारों को टिकाकरण अभियान से जोड़कर उन्हें लाभान्वित किया जाएगा। टीकाकरण को लेकर 18 प्लस के युवाओं में काफी उत्साह दिख रहा था सोशल मीडिया पर उनका उत्साह इस प्रकार था कि वह लिख रहे थे मैं हूं 18 प्लस टीकाकरण के लिए तैयार और उनकी तैयारी तो जारी है पर टीकाकरण उनके तक कब पहुंचेगा इसका उन्हें इंतजार है इस समय यदि सबसे ज्यादा कोई जागरूक दिख रहा है तो वह युवा हैं। 18 प्लस के युवा टीकाकरण के लिए इस प्रकार तैयार हैं जैसे की पहली बार चुनाव में अपना मत देने के लिए उत्साहित रहते हैं। पर उनकी उत्साह पर क्या सरकार का ध्यान है या नहीं यह तो तब पता चलेगा जब 18 प्लस के सभी युवाओं को जल्द टीका लगेगा।
अन्य शेष बचे लोगों का उसके बाद क्रमशः
टिकाकरण किया जाएगा। सरकार के इस निर्णय से टिकाकरण को लेकर उत्साहित युवावर्ग अब निराश नजर आने लगा है। सम्पूर्ण टिकाकरण को लेकर सबसे ज्यादा उत्साहित हुआ युवावर्ग प्रदेश सरकार के तीन अलग अलग चरणों मे लोगों को बांटकर किये जा रहे टिकाकरण अभियान से उसे अब अपनी बारी आने में विलम्ब का एहसास होने लगा है। युवावर्ग जो लगातार ऑनलाइन जाकर सम्पूर्ण टिकाकरण अभियान में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करने अपना पंजीयन करा रहा था, लगातार वह सोसल मीडिया पर अपने पंजीयन की जानकारी साझा कर अन्य को भी अभियान से जुड़ने लगातार प्रेरित कर रहा था, लेकिन जैसे ही उसे पता चला अब किसी पंजीयन के क्रम के आधार की बजाय आर्थिक आधार पर होगा टीकाकरण वह चिंतित हो गया है। युवावर्ग का कहना है अब ऐसे कबतक हमारी बारी आ सकेगी यह अब पता भी कैसे चल सकेगा। वैसे युवाओं को उनके उत्साह को देखते हुए पहले इस अभियान से जुड़ने का अवसर देना था, क्योंकि पीछे चलाये जा रहे 45 वर्ष से ज्यादा वालों के टिकाकरण अभियान में लोगों में जागरूकता का आभाव देखा गया है। लोग स्वस्फूर्त होकर कम ही टिकाकरण कराये, लोगों में प्रथम चरण में जागरूकता का भी आभाव देखा गया जिसके कारण टीकों के खराब होने की भी सूचना मिलती रही। कोरोना टीकों की एक सीसी 10 डोज की होती है, एक सीसी खुलकर एवम उसके उपयोग की अंतिम अवधि 4 से 5 घण्टे की होती है जिससे एक साथ 10 लोगों के उपस्थित होने पर ही एक सीसी खोलना एवम लगाना ज्यादा बेहतर होता है, प्रथम चरण में टीकों को लेकर तरह तरह की भ्रांतियां फैली हुई थीं जिसकी वजह से लोग कम ही टिकाकरण कराने सामने आते थे जिससे कई बार कई डोज खराब भी होती रही। युवावर्ग को यदि इस अभियान में शुरू से शामिल किया जाय साथ ही सभी वर्गों के युवाओं को तो वे उत्साहित होकर टिकाकरण अभियान में भाग भी लेंगे साथ ही जाकर अन्य को प्रेरित भी करेंगे। युवाओं का टिकाकरण को लेकर जारी हुआ उत्साह भी यही बताता है, वह इस अभियान से तत्काल लाभान्वित होने उत्सुक हैं।

Share .. . facebook google+ twiter