facebook google youtube Twiter
ghatati ghatana
About Us India World Chhattisgarh Sports Epaper Contact

facebook google+ YouTube twiter
Thursday 06 May 2021 03:05 AM

Breaking News


बैकुंठपुर @ अभ्यार्थी नियम विरुद्ध हुए भर्ती को निरस्त करने की कर रहे मांग



बैकुंठपुर @ अभ्यार्थी नियम विरुद्ध हुए भर्ती को निरस्त करने की कर रहे मांग 04-05-21 12:34:05

अभ्यर्थियों का आरोप अनुभव एवम साक्षात्कार के अंको को लेकर हुआ खेल...पात्र को अपात्र बनाने अपात्र को मनचाहे अंक देने का आरोप...

संविदा स्वास्थ्य कर्मी भर्ती में अनियमितता को लेकर मुख्यमंत्री,स्वास्थ्य मंत्री,स्वास्थ्य सचिव व कलेक्टर से अभ्यार्थी करेंगे शिकायत

- रवि  सिंह-
बैकुंठपुर  03 मई 2021 (घटती-घटना)।
कोरिया जिले में विभिन्न पदों पर एनएचएम संविदा स्वास्थ्य कर्मी भर्ती की सूची जारी होते ही उसमे भ्रस्टाचार का आरोप लगने लगा था,लेकिन शुरुआत में अभ्यर्थियों ने इतने बड़े स्तर पर भ्रस्टाचार की कल्पना नही की थी। उनके द्वारा दी जा रही जानकारियों अनुसार पूरी सूची देखकर तो अब यह लगने लगा है कि पूरी भर्ती प्रक्रिया ही भ्रस्टाचार की भेंट चढ़ गई है। अभ्यर्थियों का आरोप है कि इस भर्ती प्रक्रिया का संपादन कर रहे प्रभारी का इस पूरी भर्ती प्रक्रिया में काफी अहम भूमिका रही है। बताया जा रहा है कि प्रभारी लगातार उन लोगों के सम्पर्क में रहे जिनकी भर्ती की जानी है साथ ही प्रभारी लगातार राजनीतिक प्रभाव वालों से सम्पर्क बनाकर इस पूरी भर्ती को निष्पादित करने का अपना काम करते रहे जिससे किसी विवाद की स्थिति में उन्हें राजनीतिक संरक्षण भी प्राप्त हो सके अभ्यर्थियों का कहना है कि इसीलिए उनके द्वारा पूरी भर्ती सूची में राजनीतिक पहुंच वाले लोगों के परिवारजनों को गलत तरीके से लाभ पंहुचा कर नियुक्ति का लाभ दिया गया है।
अभ्यर्थियों से मिल रही जानकारी अनुसार इस भर्ती में अनुभव एवम साक्षात्कार के लिए क्रमशः 10 एवम 20 अंक निर्धारित किये गए थे, शैक्षणिक अहर्ता के अंको का 70 प्रतिशत भी उसमे जोड़कर मेरिट बनाई जानी थी, लेकिन जिन अभ्यर्थियों का शैक्षणिक योग्यता में ही अंक ज्यादा था साथ ही उनके पास अनुभव भी था और वे अन्य से वरिष्ठता क्रम में सबसे ऊपर थे उन्हें भर्ती से बाहर करने के लिए उन्हें साक्षात्कार में बिल्कुल कम अंक दिए गए,साथ ही जो अभ्यर्थी बिना अनुभव के ही किसी चहेते अभ्यर्थी से केवल शैक्षणिक अहर्ता के अंको से ही आगे निकल जा रहे थे उन्हें बाहर करने के लिए भर्ती से चहेते को फर्जी अनुभव प्रमाण पत्र साथ ही साक्षात्कार में ज्यादा अंक देकर बाहर कर दिया गया।
पूरी सूची देखकर ही कोई भी कह सकता है यह भर्ती प्रक्रिया गलत
अभ्यर्थियों का कहना है कि भर्ती सूची को देखकर ही कोई भी कह सकता है यह भर्ती मनमाने तरीके से अपने चहेतों को नियुक्ति देने के लिए की गई है। अभ्यर्थियों का कहना है साक्षात्कार में उनको भी बेहतर अंक मिलने का उनको भरोषा था लेकिन उनको उतने ही अंक दिये गए जितने अंको से उनका चयन ना हो सके। अभ्यर्थियों का यह भी कहना है कि प्रथम क्रम पर नाम होने के बाद तीसरे क्रम के लोगों को नियुक्ति दी गई,साथ ही उनको तीसरे क्रम पर लाकर बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। अभ्यर्थियों ने यह भी बताया की साक्षात्कार की प्रक्रिया भी भर्ती प्रक्रिया में अपने चहेतों को नियुक्ति देने के लिए अपनाई गई, साक्षात्कार में किसे कितने अंक मिले या किससे क्या पूछा गया सबकुछ गोपनीय रखा गया। क्योंकि जिनका चयन किया जाना था उनको पहले से ही सब कुछ बता दिया गया था।
सूची जारी होने से पूर्व कार्यभार ग्रहण कराया गया,यह भी सोची समझी रणनीति के तहत
अभ्यर्थियों का कहना है की पूरी भर्ती प्रक्रिया को पारदर्शी नही बनाया गया,चहेतों को लाभ देने पूरी तरह गोपनीयता बनाई रखी गई न साक्षात्कार के अंक सार्वजनिक कर अभ्यर्थियों को सूचना दी गई ना ही अंतिम वरिष्ठता सूची का प्रकाशन किया गया। लेकिन सूची जारी होने से पूर्व हो कोरोना महामारी का बहाना बनाकर सूची में चयनित अपने चहेते अभ्यर्थियों को सूची के प्रकाशन से पूर्व की कार्य पर व्यक्तिगत सम्पर्क कर बुला बुलाकर कार्यभार ग्रहण करा लिया गया जबकि नियुक्ति आदेश या अंतिम रूप से नियुक्ति के पूर्व यह अन्य अभ्यर्थियों के साथ अन्याय पूर्ण था। फिर भी कार्यभार ग्रहण करा लिया गया।यह भी बताया जा रहा है कि अभ्यर्थियों से मनचाही जगह पोस्टिंग में भी भ्रस्टाचार का खेल खेला गया।
जांच की मांग  के लिए अभ्यर्थी अब एकजुट होने लगे
भर्ती प्रक्रिया में हुई भारी अनियमितता एवम भर्ती प्रभारी के काल डिटेल्स की जांच कर पूरी भर्ती को निरस्त कर पुनः नए शिरे से भर्ती की मांग अब अभ्यर्थी करने की तैयारी कर रहें हैं, अभ्यर्थियों का कहना है चूंकि लॉक डाउन है और किन नियमो के तहत कैसे एकसाथ उपस्थित होकर ज्ञापन प्रस्तुत किया जाय इसकी जानकारी वह जुटा रहें हैं और नियमों की जानकारी एवम समय मिलने पर वह जिले के कलेक्टर एवम भर्ती प्रक्रिया के अध्यक्ष से मिलकर अपनी शिकायत जल्द ही दर्ज कर जांच की मांग करेंगे।साथ ही सूचना के अधिकार के माध्यम से अनुभव प्रमाण पत्रों की मांग कर उनकी सत्यता की भी जांच की मांग करेंगे।
अभ्यर्थियों ने कहा हम चुप बैठने वाले नही,करेंगे हर जगह शिकायत
भर्ती से गलत तारीके से बाहर किये गए अभ्यर्थी अब चुप बैठने वाले नही ऐसा उनका कहना है,अभ्यर्थियों का कहना है कि मुख्यमंत्री, स्वास्थ्यमंत्री, प्रभारी मंत्री एवम जिले के तीनों विधायकों सहित कलेक्टर कोरिया से शिकायत कर सूची को निरस्त करने की उनकी तरफ से मांग की जाएगी।अभ्यर्थियों ने कहा इस तरह के भ्रष्टाचार से जिले योग्य बेरोजगारों को रोजगार के अवसरों से दूर करने का प्रयास किया गया है। रोजगार की तलाश में बेहतर शैक्षणिक प्रदर्शन कर भी यदि उनको षड्यंत्र एवम लेनदेन के अभाव में भर्ती प्रक्रिया से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया जो अन्यायपूर्ण है।हम हर स्तर पर सूची के निरस्तीकरण की लड़ाई जारी रखेंगे।


Share .. . facebook google+ twiter