facebook google youtube Twiter
ghatati ghatana
About Us India World Chhattisgarh Sports Epaper Contact

facebook google+ YouTube twiter
Saturday 16 Jan 2021 09:01 AM

Breaking News


नई दिल्ली,@83 तेजस लड़ाकू विमानों से और बढ़ेगी वायुसेना की ताकत



नई दिल्ली,@83 तेजस लड़ाकू विमानों से और बढ़ेगी वायुसेना की ताकत 13-01-21 10:14:01

 48 हजार करोड़ रुपए के रक्षा सौदे को मंजूरी
हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड द्वारा बनाए गए इन विमानों के लिए 48 हजार करोड़ रुपये की डील की गई है. ये भारत की अब तक की सबसे बड़ी स्वदेशी रक्षा खरीद है.

नई दिल्ली, 13 जनवरी 2021(ए)। 
सुरक्षा मामलों पर मंत्रिमंडल की समिति (सीसीएस) ने घरेलू रक्षा खरीद के तहत करीब 48,000 करोड़ रुपए की लागत से 83 तेजस विमान खरीदने को बुधवार को मंजूरी प्रदान कर दी। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने यह जानकारी दी। राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई सुरक्षा मामलों पर मंत्रिमंडल समिति (सीसीएस) की बैठक में यह फैसला किया गया। यह सौदा भारतीय रक्षा विनिर्माण के क्षेत्र में आत्मनिर्भरता के लिए गेम चेंजर होगा।"
उन्होंने कहा कि घरेलू स्तर पर तैयार किए जाने वाले एलसीए तेजस से जुड़ी इस खरीद पर लागत करीब 48000 करोड़ रुपए आएगी। रक्षा मंत्रालय के बयान के अनुसार, मंत्रिमंडल ने हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) से भारतीय वायु सेना के लिए 83 तेजस विमान खरीदने को मंजूरी प्रदान कर दी। इसके तहत 73 हल्के लड़ाकू विमान तेजस एमके-1ए और 10 तेजस एमके-1 प्रशिक्षण विमान शामिल हैं।
तेजस चौथी पीढ़ी का लड़ाकू विमान है, जिसे एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट एजेंसी और हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा विकसित किया गया है।हल्का लड़ाकू विमान एमके-1ए का डिजाइन एवं विकास स्वदेशी स्तर पर किया गया है और यह चौथी पीढ़ी के लड़ाकू विमान से जुड़े अत्याधुनिक उपकरणों से लैस है।
पीएम मोदी की अगुआई वाली कमेटी ने फाइनल की डील
मार्च 2020 में डिफेंस एमि्जिशन काउंसिल ने 83 अडवांस्ड मार्क ए१ वर्जन तेजस विमान की खरीदारी की बात पर मुहर लगाई थी. अब पीएम मोदी की अध्यक्षता वाली सीसीएस ने इस डील को फाइनल कर दिया है.  
क्यों खास है स्वदेशी तेजस
तेजस की सबसे बड़ी खासियत यह है कि कम ऊंचाई पर उड़कर यह दुश्मन पर नजदीक से सटीक निशाना साध सकता है और यह दुश्मन के रडार को चकमा देने में माहिर है। तेजस हवा से हवा में और हवा से जमीन पर मिसाइल दागने में सक्षम है। इसमें एंटीशिप मिसाइल, बम और रॉकेट भी लगाए जा सकते हैं। डर्बी और अस्त्र मिसाइल से भी तेजस लैस हो सकता है। इतना ही नहीं, तेजस लड़ाकू विमान के जरिए लेजर गाइडेड बम से दुश्मनों पर हमला किया जा सकता है। आधुनिक रडार और मिसाइल जैमर से भी इस लड़ाकू विमान को लैस किया गया है।
लड़ाकू विमान तेजस की गति और ताकत
ध्वनि की गति से दोगुनी रफ्तार से उड़ान भरने वाला लड़ाकू विमान तेजस 2222 किमी प्रति घंटा की गति से उड़ान भरने में सक्षम है। इतना ही नहीं, 'तेजस' एक बार में 3850 किमी की दूरी तक उड़ान भरने की काबिलियत रखता है। अगर सभी तरह के हथियारों से तेजस को लैस कर दिया जाए, तो इसका कुल वजन करीब 13,500 किलो होगा। पूरी तरह से स्वदेशी लड़ाकू विमान 'तेजस' 13.2 मीटर लंबा और 4.4 मीटर ऊंचा है।


Share .. . facebook google+ twiter