facebook google youtube Twiter
ghatati ghatana
About Us India World Chhattisgarh Sports Epaper Contact

facebook google+ YouTube twiter
Saturday 15 Dec 2018 10:12 AM

Breaking News


अम्बिकापुर@ डेयरी संचालक दूध के नाम पर बेच रहे हैं जहर



अम्बिकापुर@ डेयरी संचालक दूध के नाम पर बेच रहे हैं जहर 06-12-18 10:30:12

बड़े पैमाने पर चल रहा दूध में मिलावट खोरी का गोरखधंधा
-न्यूज डेस्क-
अम्बिकापुर 06 दिसम्बर2018 (घटती-घटना)।
शहर में दूग्ध डेयरी संचालक लोगों को दूध के नाम से जहर बेंच रहे हैं जिस दूध का उपयोग कर लोग विभिन्न रोगों के शिकार हो रहे हैं जिस तरफ  संबंधित विभाग सुध लेने की जहमत नहीं उठा रहा है। किसी तरह की जांच कार्यवाही नहीं होने से दूग्ध डेयरी संचालक केमिकलयुक्त दूध धड़ल्ले से बेंचे रहे हैं। विश्वस्त्र सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार शहर में संचालित दूग्ध डेयरी में दूध में मिलावट खोरी का गोरख धंधा जोरों पर चल रहा है। सूत्रों की मानें तो दुग्ध डेयरी में दूध गाय या भैंस का न होकर बनाया हुआ दूध रहता है जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक रहता है। अगर दुग्ध डेयरी में दूध रहता भी है तो वह नाम मात्र का पानी को सफ ेद करने के लिए रहता है बाकी दूध बनावटी केमिकलयुक्त रहता है। सूत्र बताते हैं कि कोई केमिकल आता है जो पानी को दूध की तरह सफ ेद करता है और एक अन्य वासिंग पावडर मिलाया जाता है जो दूध को गाढ़ा करता है जिससे दूध अपना वास्तविक रूप में दिखता है। सूत्रों का कहना है कि डेयरी का दूध घर में ले जाकर उसे उबाला जाय तो मलाई नहीं जमती है मलाई के नाम पर एक पतली कड़ी परता जम जाती है और उस उबला दूध को पीने में उपयोग किया जाय तो उसमें दूध का स्वाद ब्लिकुल नहीं रहता है गर्मं पानी जैसा स्वाद रहता है। सूत्र बताते हैं कि दूग्ध डेयरी में मिलने वाला दूध केमिकलयुक्त रहात ळे उसमें केमिकल का मिश्रण रहता है। अगर उस दूध का उपयोग लगातार किया जाय तो उस दूध के उपयोग से लोग विभिन्न तरह की बीमारी के शिकार हो रहे हैं। दूग्ध डेयरी संचालकों द्वारा दूध के नाम से जहर बेंच कर लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। दूग्ध डेयरी में दूध ४० रूपये लीटर शुद्ध व प्योर दूध के नाम से बेंचा जाता है जबकि डेयरी के दूध में केमिकल का मिश्रण किया जाता है। दुग्ध डेयरी के दूध की मलिटी गुणवत्तायुक्त है कि नहीं इसकी जांच संबंधित विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों के द्वारा कभी नहीं की जाती है। सूत्र बताते हैं कि अगर संबंधित विभाग समय-समय पर डेयरी फ ार्मों में छापामार कार्यवाही करे तो डेयरी में की जाने वाली मिलावट खोरी बंद हो सकती है और लोगों को शुद्ध दूध मिल सकता है जो लोगों के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होगा। लेकिन संबंधित विभाग के अधिकारियों के उदासीन रवैया के कारण दुग्ध डेयरी संचालक मिलावट खोरी का गोरख धंधा कर लोगों को दूध के नाम से जहर उपलब्ध करा रहे हैं जो दूध लोगों के स्वास्थ्य को लाभ पहुँचाने की वजाय हानि पहुँचा रहा है। सूत्रों का कहना है कि संबंधित विभाग की विभागीय कार्यवाही न होने की वजह से डेयरी संचालक निर्भीकता के साथ दूध में मिलावट खोरी का गोरखधंधा चला रहे हैं और दूध के नाम से जहर बेंच कर लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलावाड़ कर रहे हैं जिस तरफ  संबंधित विभाग को ध्यान देने की जरूरत है।

Share .. . facebook google+ twiter