facebook google youtube Twiter
ghatati ghatana
About Us India World Chhattisgarh Sports Epaper Contact

facebook google+ YouTube twiter
Tuesday 13 Nov 2018 05:11 AM

Breaking News


रायपुर@ मोहन और लता में होगी कांटे की टक्कर



रायपुर@ मोहन और लता में होगी कांटे की टक्कर 05-11-18 11:30:11

रायपुर, 05 नवम्बर ( ए )। छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 के अंतर्गत बस्तर संभाग का कोंडागांव विधानसभा बहुत महत्वपूर्ण है। पिछले चुनाव में भाजपा की मंत्री रही लता उसेंडी को कांग्रेस प्रत्याशी मोहन मरकाम ने पराजित किया था। अब इस चुनाव में पुनः दोनों अपनी-अपनी पार्टी से प्रत्याशी हैं। आदिवासी बहुल विधानसभा क्षेत्र कोंडागांव में कांग्रेस विधायक मोहन मरकाम पर प्रदेश में भाजपा शासन होने के बाद भी कार्य क्षमता को लेकर कोई दबाव नहीं रहा। वे नियमित रुप से जनता के बीच जीवन्त सम्पर्क बनाए हुए हैं, वहीं पूर्व मंत्री और वर्तमान भाजपा  प्रत्याशी अक्सर राजधानी में अपना डेरा बनाए रखती हैं, जिससे वे आम  कार्यकर्ताओं के बीच सम्पर्क नहीं बना पातीं। भाजपा के शासनकाल में स्मार्ट कार्ड निर्माण, उज्जवला योजना का विस्तार क्षेत्र में सड़क पुल-पुलिया का निर्माण, स्वास्थ्य सुविधाओं में वृद्धि तथा शिक्षा के प्रचार-प्रसार में विस्तारीकरण का लाभ भी पराजित प्रत्याशी लता उसेंडी नहीं उठा पाई। आम जनता इस विकास को कांग्रेस विधायक मोहन मरकाम के प्रयत्नों का परिणाम मानती है। ये अलग बात है कि प्रदेश में भाजपा सरकार के कामकाज का असर कोंडागांव विधानसभा क्षेत्र की जनता पर सकारात्मक है। आमजनमानस की बुनियादी सुविधाओं और सड़कों के निर्माण कार्य को लेकर भी बहुत सारी अपेक्षाएं है। उनका मानना है कि आगामी दिनों में उनकी अपेक्षाएं पूरी हो सकेंगी। सरकार की राशन प्रणाली को लेकर क्षेत्र गरीब परिवारों में सकारात्मक सोच है। भाजपा की वर्तमान प्रत्याशी को लेकर जनता में निराशाजनक स्थिति है। उन्हें नए चेहरे की तलाश थी किंतु पार्टी ने पूर्व प्रत्याशी पर ही विश्वास जताकर जनभावनाओं को आहत किया है। कांग्रेस प्रत्याशी की स्थिति मजबूत है। जकांछ (जोगी) प्रत्याशी क्षेत्र में मतदान को लेकर ज्यादा प्रभावशाली नहीं है। उनकी उपस्थिति से कांग्रेस को नुकसान होगा। क्षेत्र में कांग्रेस के कैलाश पोयाम,बुधराम नेताम और भाजपा के जिला जनपद अध्यक्ष बाल सिंह बघेल अपनी टीम सहित अपनी-अपनी पार्टी के प्रत्याशी पक्ष में चुनाव प्रचार में भिड़ गए हैं। कोंडागांव के अलावा  बड़ी जनसंख्या वाले महत्वपूर्ण गांव माकड़ी, दहीकोंगा, बनियागांव, चिखलकुटी आदि हैं, जहां के लोग जय-पराजय की स्थिति को निर्मित करने का दम रखते हैं। वर्तमान विधानसभा चुनाव में क्षेत्र में संचार सुविधाओं को दुरुस्त बनाने, शहर से दूर ग्रामीण एवं अंदरुनी इलाकों में सड़क निर्माण और पेयजल की कमी को दूर करने का मुद्दा उठ सकता है। प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की साफ-सुथरी छवि का लाभ भाजपा प्रत्याशी लता उसेंडी उठाकर जीत का सेहरा अपने सिर पर लेती हैं या अपनी सक्रियता और बेदाग छवि के बूते कांग्रेसी विधायक मोहन मरकाम पुनः अपनी जीत दर्ज कराएंगे। यह चुनाव में मतदान के बाद ही पता चल सकेगा। फिलहाल यह कहा जा सकता है कि प्रदेश की सत्ता, सुशासन और बेहतर कार्यप्रणाली  का श्रेय जो प्रत्याशी ले सकेगा जीत की संभावना उसी की होगी। बहरहाल कोंडागांव में इस बार चुनाव में कांटे की टक्कर देखने को मिलेगी।  



Share .. . facebook google+ twiter


विज्ञापन
ghatati-ghatana