facebook google youtube Twiter
ghatati ghatana
About Us India World Chhattisgarh Sports Epaper Contact

facebook google+ YouTube twiter
Tuesday 13 Nov 2018 06:11 AM

Breaking News


घटती - घटना एक नज़र में

चलना ही जिंदगी है और हम चल पड़े ! जब चलना सुरु किये तब राह उबड़ खाबड़ थी | अनजान थी और मार्गदर्शक का आभाव था | यह अपने आप में घटना थी जो घटती घटना के नाम से आप सब के समक्ष उपस्थित हुवी | लगभग 13 वर्ष पूर्व प्रारम्भ हुवी यह यात्रा आप सभी के आशीर्वाद के अनवरत जारी है और छत्तीसगढ़ के प्रत्येक कोनो पर इसे स्नेह और प्रोत्साहन मिल रहा है |

यह स्मरण कराना आवश्यक तो नहीं है परन्तु सामायिक है की आज भी सरगुजा आधुनिक संसाधनों की कमी झेल रहा है | कुशल कर्मकारों का अतयंत आभाव है | प्रशिक्षण की व्यवस्था नहीं है और हम हैं की पूरी निष्ठां से निर्धारित लक्ष्य की ओर अपनी युवा टीम के साथ बढ़ते जा रहे हैं | यात्रा जो मुद्रण की प्रारंभिक इकाई से प्रारम्भ हुवी अब आधुनिकतम आकर ले चूका है | आप सभी के स्नेह आशीष से उस नए मुकाम पर हम पहुँचने का भरोसा किये बैठे हैं जो प्रतियोगिता की दौड़ में हमे उचित स्थान उपलबध करा सकती है |

समपूर्ण छत्तीसगढ़ को अपने आप में समेटे हमारा यह दैनिक अपने आप में विज्ञापन , समाचार , कला , संकृति सम्बन्धी आलेख इस कदर सम्माहित करता है की एक ही झटके में आप सब कुछ पा सकते हैं | और यह सब आप क्लिक करने के साथ ही स्क्रीन www.ghatatighatana.com पर देख सकेंगे | इनमे आदिवासी अंचल के विविध संस्कृति के साथ ही उनके दैनिक समस्याओं , उनका जीवन स्तर तथा भौतिक वातावरण भी आप घर बैठे जान सकते हैं | उनकी आवाज जो घटती घटना दूर बैठे कर्णधारों तक पहुंचा सकती है उसमे आप भी भागिदार बन सकते है |

सरगुजा संभाग मुख्यालय अंबिकापुर के अनेक छोटे बड़े दैनिक , सप्प्ताहिक , पाक्षिक पत्र पत्रिकायें प्रकाशित हो रहे हैं | इसमें संदेह नहीं की हम यह दावा करतें हैं की जो सच्चाई , जो वास्तविकता और जो उपादेयता घटती घटना के माध्यम से हमारी युवा टीम परोस रही है उसकी टक्कर में कोई नहीं आ सकता |

यह बताना आवश्यक है की घटानी - घटना ने जो 7 /10 /2004 से प्रकाशन की दुनिया में कदम तरखा आज भी किशोरावस्था की मूल समस्याओं से ग्रस्त है | आखिर एक पत्र संसथान के लिए 13 वर्ष क्या अर्थ रखता है पर अपने गहन चिंतन और विचार शैली से प्रबंधन और संपादन कौशल ने अपने बढ़ते रहने का सन्देश दिया है | हमें अपने मैदानी कार्यकर्ताओं पर पूरा भरोसा है की वे भविष्य में अपना सर्वोत्तम सहयोग देते रहेंगे ताकि विद्वान पाठक , अध्ययेता और संस्थाएं हमें स्वीकार - अस्वीकार और प्यार देती रहेंगी

आपका - घटती - घटना